अइसे न हम भटकती - गीत (बज्जिका, भोजपुरी)

अइसे न हम भटकती रहती जे गांव में
अइसे न हम भटकती रहती जे गांव में
घुटघुट के हम न मरती रहती जे गांव में
अइसे न हम भटकती रहती जे गांव में
घुटघट के हम न मरती रहती जे गांव में
घुटघट के हम न मरती रहती जे गांव में


चलते ई पापी पेट के, घर द्वार सब छुटल
चलते ई पापी पेट के, घर द्वार सब छुटल
दिन रात खटत रहली, कही चैन न मिलल
मज़लिस हम लगईती पीपर के छांव में
पुरवईया हवा खईती पीपर के छांव में
सुनती न गारी बात हम रहती जे गांव में
घुट घट के हम न मरती रहती जे गांव में


विपत्त जब पड़ल कौनो राह न सुझल
विपत जब पड़ल कोनो राह न सुझल
पैदल चलते चलते लड़िकन के दम घुटल
छाला पड़ गईल किस्मत के पाँव में
छाला पड़ गईल किस्मत के पाँव में
घुट घट के हम न मरती रहती जे गांव में
अइसे न हम भटकती रहती जे गांव में
अइसे न हम भटकती रहती जे गांव में
घुट घट के हम न मरती रहती जे गांव में
घुट घट के हम न मरती रहती जे गांव में

Comments

Popular posts from this blog

तनहा

हम चलते रहे

देव होली