महाशिवरात्रि

हीरे मोती छोड़ सर्प का आभूषण बनाता है तू,
देवलोक छोड़ शमशान में धुनि रमाता है तू !

स्वर्ग से गिरती गंग धार को जटे में समाता है तू,
ख़ुद पी कर ज़हर औरों को अमृत पिलाता है तू,

काम को भस्म कर राम से मिलाता है तू ,
इसीलिये तों देवों का देव महादेव कहलाता है तू!

हे आदियोगी मुझ में भी आत्म-विश्रान्ति भर दे,
हे चिदानंदरूप मुझको भी शिवाला कर दे!

शुभ महाशिवरात्रि
#आशुतोष 

Comments

Popular posts from this blog

तनहा

हम चलते रहे

देव होली