हम चलते रहे


जिन्हे छलना था, वो छलते रहे !
हमें चलना था, हम चलते रहे !!

बस अपनी तन्हाई काटनी थी उन्हें,
और हमारी आँखों में, सपने पलते रहे !

अकेले में जब भी मिला मुझे खुदा बताया,
पर भरी महफ़िल में, हम उन्हें खलते रहे !

जब तलक हम मुफलिसी में थे, वो हमदर्द थे,
कुछ बुलंदी को जो छुआ हमने, तो बैठे जलते रहे !

कुछ सोची समझी चाल थी, कुछ ग़लतफ़हमियाँ,
वो वक़्त के हिसाब से, अपनी नीयत बदलते रहे !

जिस चमन में गये, चुन ली सारी कलियाँ,
बेचारे भवरों के दिल में, अरमान मचलते रहे !

कुछ रहनुमा भी मिले दुनिया के सफर में,
रूहानी हाथ बढ़ते रहे, करम फलते रहे !

जिन्हे छलना था, वो छलते रहे !
हमें चलना था, हम चलते रहे !!

-आशुतोष 

Comments

Popular posts from this blog

तनहा

देव होली