खोने लगा है

जो यकीं था मुझको कल तक, अब वो खोने लगा है
मुस्कुराता रहता था जो अक्सर, अब वो रोने लगा है !

जब तक हसरतें जवाँ थी, दुनिया हसीं थीं
वादों का जो गुलदस्ता था, अब वो कोने लगा है !

पहले दिन कहो तो दिन थी, रात कहो तो रात थी
फूल झड़ते थे लवों से जो, काँटा बन अब वो चुभोने लगा है !

दो जिस्म एक जान, आत्मा भी एक हो गयी थी शायद
पता नहीं फिर क्यों, अकेले अब वो सोने लगा है !

त्यौहारों के मेले अपने पराये संग चलते थे मेलों के रेले,
दूर नजदीक के सारे रिश्ते, अब वो ढ़ोने लगा है !

मुँह मीठा किये बिना घर से निकलते न थे कभी
खेतों में गन्ने की जगह करेले,  अब वो बोने लगा है !

नयी जवानी नयी उमंग धड़कने भी जवाँ थीं कभी
जाने अनजाने किये सारे गुनाह, अब वो धोने लगा है !

जिसे देवता बनाकर चाहतों ने पूजा था कभी  
मिट्टी का पुतला, फिर से, मिट्टी अब वो होने लगा है !


Comments

Popular posts from this blog

तनहा

हम चलते रहे

देव होली