सज़ा

मिठाई अब ज़हर और दवा अपनी जिंदगी थी,
अपने खेतों से बिछरने की सज़ा तो मिलनी थी !



Comments

Popular posts from this blog

तनहा

हम चलते रहे

देव होली