मीडिया

हर मामले में मीडिया आग में घी डालती है,
तिल का तार बना लोगों के ख़ून उबालती है!

समझ गई तेल लेने, जिसे बुद्धिजीवी वर्ग को कान में डाल सो जाना है,
राजनीती का अर्थ सच छुपाकर, सिर्फ विरोधी पर लाँछन लगाना है!

चुनाव लड़ने के लिए न्यूनतम आवश्यकता हो राजनीती शास्त्र में पीएचडी,
और ज्वाइन करने से पहले नैतिक शिक्षा की पढाई करे सारे जन प्रतिनिधि !

Comments

Popular posts from this blog

तनहा

हम चलते रहे

देव होली