तुस्टीकरण

पाकिस्तान में होनेवाले हर ब्लास्ट की इल्ज़ाम हिन्दुस्तान पे आती है,
और गुरमेहर तेरे पिता को पाकिस्तान नहीं लड़ाई मार जाती है ?

भारत के टुकड़े करने वालों के लिए भी कुछ लिख देती,
किन कारणों से वो सही हैं जरा हमें भी सीख देती !

ऐसे ही आज़ादी मांगते मांगते कन्हैया जी छा गये, 
लगता है उन्हीं के नक़्शे-कदम तुम्हें भी भा गये !

वैसे भी देखभक्ति की बात करने वाले सांप्रदायिक हो जाते हैं, 
और तुस्टीकरण की राजनीती करने वाले लिबरल कहलाते हैं !

विश्व-विद्यालयों से राजनितिक पार्टियाँ हटनी चाहिए, 
ये शिक्षा का मंदिर है यहाँ सिर्फ विद्या बटनी चाहिए !

Comments

Popular posts from this blog

तनहा

हम चलते रहे

देव होली