दुरी


कल सुना था गाँव का एक बच्चा भूख से मर गया,
आज पता चला शहर में अनाज गोदाम में सड़ गया !

एक तरफ़ चाँद और धरती की दुरी घटती जा रही है,
दूसरी तरफ़ अनाज और पेट की दुरी बढ़ती जा रही है !

कही क़र्ज़ के बोझ तले दब भूख से मर रहा अन्नदाता किसान है,
कही कटप्पा और बाहुबली के पीछे करोड़ो लगा रहा इंसान है!

कही हीरो के पोस्टरों को दूध से यूँ नहलाये मानो भगवान है,
देख सब लगता है सचमुच मेरा देश कितना महान है।

Comments

Popular posts from this blog

तनहा

हम चलते रहे

देव होली