नोटबंदी

साठ साल है झेला साथी कुछ दिन और सह लेंगे 
आतंकवाद मिटाने को बिना नोट भी रह लेंगे

बलिदान है रक्त में अपने देश की ख़ातिर सह लेंगे 
नक्सलवाद मिटाने की ख़ातिर बिना नोट भी रह लेंगे

धन कुबेर क्या बनना साथी ख़ुद को ग़रीब कह लेंगे 
काला धन मिटाने को साथी बिना नोट भी रह लेंगे

ऐश मौज़ क्या करना साथी फ़कीरी में ही लह लेंगे 
भ्रस्टाचारियों के मर्दन को बिना नोट भी रह लेंगे

देशभक्ति सिर्फ़ शब्द नहीं ह्रदय में हम गह लेंगे 
माँ भारती की रक्षा हेतु बिना नोट भी रह लेंगे !

Comments

Popular posts from this blog

तनहा

हम चलते रहे

देव होली